मेरा तो ये खाटू वाला लगता रिश्तेदार भजन लिरिक्स

मेरा तो ये खाटू वाला लगता रिश्तेदार भजन लिरिक्स

मेरा तो ये खाटू वाला,
लगता रिश्तेदार,
वरना क्यों ये साथ निभाता,
करता हमसे प्यार,
खाटू ही घर है मेरा,
श्याम जहाँ तेरा बसेरा।।

तर्ज – स्वर्ग से सुन्दर।



दुःख और सुख में प्यारे,

आपको मनाऊं,
दिल की ये बातें सारी,
आपको सुनाऊं,
कोई भी फैसला लेने से पहले,
पूछूं बारम्बार,
वरना क्यों ये साथ निभाता,
करता हमसे प्यार,
खाटू ही घर है मेरा,
श्याम जहाँ तेरा बसेरा।।



आप जैसा कोई नहीं,

है घर में मेरे,
हार के आया बाबा,
पास में तेरे,
मेरे जीवन का तो प्यारे,
आप ही हो आधार,
वरना क्यों ये साथ निभाता,
करता हमसे प्यार,
खाटू ही घर है मेरा,
श्याम जहाँ तेरा बसेरा।।



जब भी मेरा मन करे मैं,

दर तेरे आऊं,
क्यूंकि वो घर भी मेरा,
हक़ से बताऊँ,
श्याम उमंग संग रहते घर में,
बन जाते परिवार,
वरना क्यों ये साथ निभाता,
करता हमसे प्यार,
खाटू ही घर है मेरा,
श्याम जहाँ तेरा बसेरा।।



मेरा तो ये खाटू वाला,

लगता रिश्तेदार,
वरना क्यों ये साथ निभाता,
करता हमसे प्यार,
खाटू ही घर है मेरा,
श्याम जहाँ तेरा बसेरा।।

Singer – Akhil Garg


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें