मेहंदीपुर सालासर धाम दोनों अमर भजन लिरिक्स

मेहंदीपुर सालासर धाम दोनों अमर भजन लिरिक्स

मेहंदीपुर सालासर,
धाम दोनों अमर,
नित चमत्कार देखो,
यहाँ हो रहा,
रूप हनुमान के,
देख लो ध्यान से,
जिसने दर्शन किए,
वो सुखी हो गया।।

तर्ज – रश्के कमर।



यहाँ भैरव पलकार,

प्रेत राज सरकार,
तीनो देवो की गूंजे,
यहाँ जय जयकार,
जो भी अर्जी करे,
विघ्न संकट मिटे,
बिना मांगे ही सब कुछ,
उसे मिल गया,
बिना मांगे ही सब कुछ,
उसे मिल गया।।



काम बन जाते है,

लोग गुण गाते है,
कोई सवामणि लेकर,
यहाँ आते है,
तीनो देवो को भोग,
जब चढ़ाते है लोग,
राम किरपा से वो,
मालामाल हो गया,
राम किरपा से वो,
मालामाल हो गया।।



इस पहाड़ी पे है,

अंजनी माँ का द्वार,
मिले पंचमुखी हनुमत,
माँ काली का प्यार,
ये गणेशपूरी दास,
पूरी करे सबकी आस,
जो भी भोग लगाए,
सब काम बन गया,
जो भी भोग लगाए,
सब काम बन गया।।



मेहंदीपुर सालासर,

धाम दोनों अमर,
नित चमत्कार देखो,
यहाँ हो रहा,
रूप हनुमान के,
देख लो ध्यान से,
जिसने दर्शन किए,
वो सुखी हो गया।।

Singer – Kanishka Negi


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें