माया रंग बादली म्हारे चंदे ने लियो छुपाय भजन लिरिक्स

म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादली,
माया रंग बादलि,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।



काया में माया बसे रे,

ज्यू पत्थर में आग,
हरि मिलान ने चावे है तो,
चक मक होके लाग,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।



चोर चुराई तुम्बड़ी जी,

ता बेजद क माये,
बोदा रे उबरे भाई,
करनी ना चानी ना ये,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।



काम क्रोद को बण्यो बादलो,

गरज रियो अंगर,
आसा तृस्ना बनी बिजली,
बीज रयो संसार,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।



ज्ञान पवन जब से चली जी,

बादल दिया उडाय,
कहत कबीर सुनो भाई साधो,
चंदा तो दिखया जाये,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।



म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,

माया रंग बादली,
माया रंग बादलि,
माया रंग बादलि,
म्हारे चंदे ने लियो छुपाय,
माया रंग बादलि।।

Singer – Prakash Ji Gandhi
Upload – Shubham Kumar
8764205062


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें