प्रथम पेज राजस्थानी भजन मधुर सुर बोल रे कागा मीरा रो मन राम से लागा

मधुर सुर बोल रे कागा मीरा रो मन राम से लागा

मधुर सुर बोल रे कागा,
मीरा रो मन राम से लागा,
गुरु मिठो बोल रे कागा,
बाई रो मन राम से लागा।।



मुकुट सोवे मोर की पखड़ी,

गले मो सोवे सांप री रखड़ी,
मधुर सुर बोंल रे कागा,
बाई रो मन राम से लागा।।



सावरिया थे बाग में जाती,

फूलो री भरे साबड़ी लाती,
मधुर सुर बोंल रे कागा,
बाई रो मन राम से लागा।।



सावरिया थारो पंथड़ो भारी,

कटारी म्हारे कालजे लगी,
मधुर सुर बोंल रे कागा,
बाई रो मन राम से लागा।।



बाई रो जस सूरदास गावे,

चरण कमल लिपटावे,
गुरु मिठो बोल रे कागा,
मीरा रो मन राम से लागा।।



मधुर सुर बोल रे कागा,

बाई रो मन राम से लागा,
गुरु मिठो बोल रे कागा,
मीरा रो मन राम से लागा।।

Upload By – Bhavesh Jangid
8769242034


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।