प्रथम पेज राजस्थानी भजन माटी की मटकी राम राम बोल चेतावनी भजन लिरिक्स

माटी की मटकी राम राम बोल चेतावनी भजन लिरिक्स

माटी की मटकी राम राम बोल,
राम राम बोल हरी हरी बोल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।



गर्भवास में उलटा लटकया,

गर्भवास में उलटा लटकया,
बाहर आयो तु कर कर कौल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।



ऊपर से तु चिकनी चुपडी,

ऊपर से तु चिकनी चुपडी,
भीतर से साँची साँची बोल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।



बाहर जगत में आकर नाम न लिना,

बाहर जगत में आकर नाम न लिना,
आगे करे ना कोई कौल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।



कहत कबीरा सुनो भाई साधो,

कहत कबीरा सुनो भाई साधो,
अब तो मुख शब्द बोल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।



माटी की मटकी राम राम बोल,

राम राम बोल हरी हरी बोल,
माटी री मटकी राम राम बोल।।

गायक – रामेश्वर देवल।
प्रेषक – धरम चन्द नामा( नामा म्युजिक)
9887223296


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।