प्रथम पेज राजस्थानी भजन मारो वालो भूखो से प्रेम रो रे देसी वीणा भजन लिरिक्स

मारो वालो भूखो से प्रेम रो रे देसी वीणा भजन लिरिक्स

दुर्योधन रा मैवा तैयागया रे,
वाले दुर्योधन रा मैवा तैयागया रे,
खायो खायो विदुर घर साग,
खायो खायो विदुर घर साग,
मारो वालो भूखो से प्रेम रो रे,
मारो वालो भूखो से भाव रो रे।।



नहीं देखे आसार विसार,

नहीं देखे आसार विसार,
भाव देखे जठे जीम ले रे,
मारो वालों प्रेम देखे जठे जीम ले रे।।



सुदामाजी रा ताॅदला खाय गयो रे,

वालों सदामाजी रा ताॅदला खाय गयो रे,
खायो खायो भीलणी रा हेठा बोर,
खायो खायो भीलणी रा हेठा बोर,
मारो वालों भुखो से प्रेम रो रे,
मारो वालों भुखो से भाव रो रे,
नहीं देखे आसार विसार,
नहीं देखे आसार विसार,
भाव देखे जठे जीम ले रे,
मारो वालों प्रेम देखे जठे जीम ले रे।।



पीपाजी रा कापड़ा थापीया रे,

वाले पीपाजी रा कापड़ा थापीया रे,
खायो खायो कर्मा रो खाटो खींच,
खायो खायो कर्मा रो खाटो खींच,
मारो वालों भूखों से प्रेम रो रे,
मारो वालों भूखों से भाव रो रे,
नहीं देखे आसार विसार,
नहीं देखे आसार विसार,
भाव देखे जठे जीम ले रे,
मारो वालों प्रेम देखे जठे जीम ले रे।।



नरसीजी री हुॅडीयाॅ परी सीतारी रे,

वाले नरसीजी री हुॅडीयाॅ परी सीतारी रे,
पुरीयाॅ पुरीयाॅ मोमेरा राॅ कोड,
पुरीयाॅ पुरीयाॅ मोमेरा राॅ कोड,
मारो वालों भुखो से प्रेम रो रे,
मारो वालों भुखो से भाव रो रे,
नहीं देखे आसार विसार,
नहीं देखे आसार विसार,
भाव देखे जठे जीम ले रे,
प्रेम देखे जठे जीम ले रे।।



बाई मीराॅ री विणती रे,

बाई मीराॅ री विणती रे,
हारयाॅ हारयाॅ भगतां राॅ काॅम,
हारयाॅ हारयाॅ भगतां राॅ काॅम,
मारो वालों भुखो से प्रेम रो रे,
मारो वालों भुखो से भाव रो रे,
नहीं देखे आसार विसार,
नहीं देखे आसार विसार,
भाव देखे जठे जीम ले रे,
मारो वालों प्रेम देखे जठे जीम ले रे।।

प्रेषक – वागाराम H चौधरी भादरूणा
साॅचौर जालोर राजस्थान 343040
PH-941903125


१ टिप्पणी

  1. ऐप बहुत ही अच्छा लगा
    पुराना भजन पढ़ने को मिलता है
    धन्यवाद

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।