प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन माँ तेरे दरबार झुके सारा संसार भजन लिरिक्स

माँ तेरे दरबार झुके सारा संसार भजन लिरिक्स

माँ तेरे दरबार,
झुके सारा संसार,
मेरी सुनले पुकार,
ज्योता वालिये हो लाटा वालिये,
मां तेरे दरबार,
झुके सारा संसार।।



बिच भंवर में घिर गई नैया,

घिर गई नैया,
तुझ बिन मेरा कौन खिवैया,
कौन खिवैया,
तूफ़ा उठा है माँ,
तूफ़ा उठा है लहरों में तू,
कर दे बेडा पार माँ,
मेरी सुनले पुकार,
ज्योता वालिये हो लाटा वालिये,
मां तेरे दरबार,
झुके सारा संसार।।



तुम चाहो तो टूटे जोड़ो,

टूटे जोड़ो,
मुर्दे में जां वापस मोड़ो,
वापस मोड़ो,
अपने नाम की माँ,
अपने नाम की लाज बचालो,
भक्त ना जाए हार माँ,
मेरी सुनले पुकार,
ज्योता वालिये हो लाटा वालिये,
मां तेरे दरबार,
झुके सारा संसार।।



हे जगदम्बे हे महामाया,

हे महामाया,
सर के बल मैं चल के आया,
चल के आया,
आज ना तेरे माँ,
आज ना तेरे दरस हुए तो,
दूंगा शीश उतार,
मेरी सुनले पुकार,
ज्योता वालिये हो लाटा वालिये,
मां तेरे दरबार,
झुके सारा संसार।।



माँ तेरे दरबार,

झुके सारा संसार,
मेरी सुनले पुकार,
ज्योता वालिये हो लाटा वालिये,
मां तेरे दरबार,
झुके सारा संसार।।

प्रेषक – आशुतोष त्रिवेदी
7869697758


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।