माँ सिंह पे सवार है हाथों में तलवार है भजन लिरिक्स

माँ सिंह पे सवार है,
हाथों में तलवार है,
है रूप विकराला,
है भृकुटि विशाला,
कर में तेरे भाल है,
तू दुष्टो की काल है।।

तर्ज – मुकुट सिरमौर का।



चंडी जगदम्बे भवानी,

काली महाकाली माँ,
दुष्टो को मारने वाली,
है शक्तिशाली माँ,
नैना तेरे विशाल माँ,
मुकुट स्वर्ण भाल माँ,
है रूप विकराला,
है भृकुटि विशाला,
कर में तेरे भाल है,
तू दुष्टो की काल है।।



चण्ड मुण्ड मारने वाली,

महिषासुर घातनी,
गल मुण्डो की माला,
खड़ग की धारणी,
है शुम्भ विदारे माँ,
निशुम्भ संहारे माँ,
है रूप विकराला,
है भृकुटि विशाला,
कर में तेरे भाल है,
तू दुष्टो की काल है।।



क्रोध महाकाली माँ का,

थम नहीं पाया था,
शिव जी मारग में लेटे,
शांत कराया था,
देवो ने की प्रार्थना,
माँ क्रोध को थामना,
है रूप विकराला,
है भृकुटि विशाला,
कर में तेरे भाल है,
तू दुष्टो की काल है।।



माँ सिंह पे सवार है,

हाथों में तलवार है,
है रूप विकराला,
है भृकुटि विशाला,
कर में तेरे भाल है,
तू दुष्टो की काल है।।


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

करले तु दीदार शेरा वाली का भजन लिरिक्स

करले तु दीदार शेरा वाली का भजन लिरिक्स

करले तु दीदार शेरा वाली का, सेवक है संसार पहाडो वाली का।। डगर डगर माँ के जयकारे, पग पग मे ज्योति के नजारे, क़दम क़दम दरबार शेरा वाली का, सेवक है…

ओ माँ मेरी पत रखियो सदा लाटावालीये भजन लिरिक्स

ओ माँ मेरी पत रखियो सदा लाटावालीये भजन लिरिक्स

ओ माँ मेरी पत रखियो सदा, लाटावालीये, दुखिया को, पापन को, दे दे सहारा, तेरा मंदिर है न्यारा, मुझे भी दे उजियारा, मिटे मन का अंधियारा, ओ माँ मेरी ओ…

तू तो काली ने कल्याणी रे माँ जहाँ जोऊ त्या जोग माया लिरिक्स

तू तो काली ने कल्याणी रे माँ जहाँ जोऊ त्या जोग माया भजन लिरिक्स

तू तो काली ने कल्याणी रे माँ, जहाँ जोऊ त्या जोग माया, तू तो भक्ता ना दुःख हरणानि रे माँ, जहाँ जोऊ त्या जोग माया, तूने चारो वेद बखाणी रे…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे