प्रथम पेज दुर्गा माँ भजन माँ की सूरत ली है दिल में उतार भजन लिरिक्स

माँ की सूरत ली है दिल में उतार भजन लिरिक्स

माँ की सूरत ली है,
दिल में उतार,
प्यारा सजा है,
माँ का दरबार,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।

तर्ज – आने से उसके।



लाल चुनरिया लेके,

तेरे द्वारे पे आया हूँ मैया,
हाथ पकड़ लो मेरा,
कहीं डूब ना जाए नैया,
डूबी जो नाव मेरी,
तुम्हे ही बचानी है,
मेरी अम्बे माँ,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।



तेरे दर पे मैया,

मैंने पाई है दुनिया की दौलत,
तेरे इस बालक को,
बस मिल जाए इतनी सी मोहलत,
आँचल में सो जाऊं,
दुनिया ये बैगानी है,
मेरी अम्बे माँ,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।



सारे जग में ढूंढा,

मेरी मैया सा देखा कही ना,
माँ की कर लो पूजा,
देखो आया है पावन महीना,
‘पूनम’ की अर्जी है,
तेरी जरुरत है,
मेरी अम्बे माँ,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।



तेरा दर ये छूटे,

मैया आए ये दिन तो कभी ना,
मैया शेरोवाली,
तुमसे टूटे ये नाता कभी ना,
‘बबलू’ की विनती है,
सारे दुःख हरती है,
मेरी अम्बे माँ,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।



माँ की सूरत ली है,

दिल में उतार,
प्यारा सजा है,
माँ का दरबार,
बड़ी मनभावन है,
मेरी अम्बे माँ,
निर्मल पावन है,
मेरी अम्बे माँ।।

Singer – Poonam Sharma


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।