माँ का दर चूमकर सारे गम भूलकर भजन लिरिक्स

माँ का दर चूमकर,
सारे गम भूलकर,
मैंने अर्जी लगाई, मजा आ गया,
दर बदर घूम कर,
मैया के द्वार पर,
मैंने झोली फैलाई, मजा आ गया।।

तर्ज – मेरे रश्के कमर।



सिंह पर बैठ कर माँ भवानी चली,

दुष्ट दानव पे माँ की दुधारी चली,
रण में संहार कर, दुष्टों को मार कर,
मुण्डमाला बनाई, मजा आ गया।।



माँ की कृपा के बादल बरस जायेंगे,

सबके बिगड़े मुकद्दर संवर जायेंगे,
बात बन जायेगी, झोली भर जायेगी,
माँ से आशा लगाई, मजा आ गया।।



आसरा इस जहाँ का मिले न मिले,

माँ के दर पे ‘पदम्’ को ठिकाना मिले,
आ गये द्वार माँ, कर दो उपकार माँ,
माँ की महिमा को गाई, मजा आ गया।।



माँ का दर चूमकर,

सारे गम भूलकर,
मैंने अर्जी लगाई, मजा आ गया,
दर बदर घूम कर,
मैया के द्वार पर,
मैंने झोली फैलाई, मजा आ गया।।

Singer – Mukesh Kumar