लख चौरासी जून भोगता जीव घणो दुख पावे रे

लख चौरासी जून भोगता,
जीव घणो दुख पावे रे,
राम नाम रो सुमिरन करले,
जीन सु मुक्ति पावे रे,
राम नाम रो सुमिरन करले,
जीन सु मुक्ति पावे रे।।



अरे मिनक जमारो मूंगो बंदा,

बार बार नही आवे रे,
मिनक जमारो मूंगो बंदा,
बार बार नही आवे रे,
साची प्रीत हरि सु करले,
जनम मरण मिट जावे रे,
साची प्रीत हरि सु करले,
जनम मरण मिट जावे रे।।



अरे माया मे मन भटके थारो,

जोड जोड घर लावे रे,
माया मे मन भटके थारो,
जोड जोड घर लावे रे,
महल मालीया खूब बनाया,
राम नाम नही भावे रे,
महल मालीया खूब बनाया,
राम नाम नही भावे रे।।



अरे किन कारण इन जग में आयो,

इन रो चेतो करले रे,
किन कारण इन जग में आयो,
इन रो चेतो करले रे,
मालीक रे घर जानो एक दिन,
ध्यान हीय पर धरले रे,
मालीक रे घर जानो एक दिन,
ध्यान ही यहा पर धरले रे।।



अरे सुमता कुमता दोनो थारे,

घट मे बात सुनावे रे,
अरे सुमता कुमता दोनो थारे,
घट में बात सुनावे रे,
बात मानले सुमता वाली,
घट में ग्यान जगावे रे,
बात मानले सुमता वाली,
घट में ग्यान जगावे रे।।



अरे सतपुरूषो री सेवा करले,

साचो पंथ बतावे रे,
अरे सतपुरूषो री सेवा करले,
साचो पंथ बतावे रे,
गुरू बडा गोविन्द से बंदा,
गोविन्द आप मिलावे रे,
गुरू बडा गोविन्द से बंदा,
गोविन्द आप मिलावे रे।।



अरे दास अशोक सुनावे बंदा,

राम नाम ने भजले रे,
दास अशोक सुनावे बंदा,
राम नाम ने भजले रे,
निर्मल मन हो जावे बंदा,
काम क्रोध ने तजले रे,
निर्मल मन हो जावे बंदा,
काम क्रोध ने तजले रे।।



लख चौरासी जून भोगता,

जीव घणो दुख पावे रे,
राम नाम रो सुमिरन करले,
जीन सु मुक्ति पावे रे,
राम नाम रो सुमिरन करले,
जीन सु मुक्ति पावे रे।।

गायक – सरिता जी खारवाल।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

कर भक्ति से प्यार म्हारी हेली भजन लिरिक्स

कर भक्ति से प्यार म्हारी हेली भजन लिरिक्स

कर भक्ति से प्यार, जब पावे तू तो, अमर पति म्हारी हेली, कर भक्ती से प्यार।। हां म्हारी हेली, श्रुति करत पुकार, भक्ति बिन थारी, मुक्ति नहीं री, कर साधन…

कोई तो भीरु बोलो मारा प्रभुजी कन्हैयो माखन खावे

कोई तो भीरु बोलो मारा प्रभुजी कन्हैयो माखन खावे

कोई तो भीरु बोलो मारा प्रभुजी, कोई तो बीरू बोलो रे, कोई तो बीरू बोलो प्रभुजी, कन्हैयो माखन खावे ओ, कोई तो बीरू बोलो, कानुडो माखन खावे ओ, कोई तो…

सातों बहना ने सोवे रे गुलाब गज़रो भजन लिरिक्स

सातों बहना ने सोवे रे गुलाब गज़रो भजन लिरिक्स

सातों बहना ने सोवे रे, गुलाब गज़रो। दोहा – इन्द्रगढ़ बीजासणा, बरवाड़ा में चौथ, उपरमाल में जोगणिया, थारे हरदम जलती ज्योत। सातों बहना ने सोवे रे, गुलाब गज़रो, इन्द्रगढ़ वाली…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे