लड़ती है नज़र तुमसे तो लड़ने दे कन्हैया भजन लिरिक्स

लड़ती है नज़र तुमसे,
तो लड़ने दे कन्हैया,
तेरे नाम का नशा है,
तो चढ़ने दे कन्हैया,
लड़ती है नज़र तुमसें,
तो लड़ने दे कन्हैया।।

तर्ज – बिगड़ी मेरी बना दे।



बरसों से जुबां चुप है,

और होंठ ये सिले हैं,
मौका मिला तो बातें,
कुछ करने दे कन्हैया,
तेरे नाम का नशा है,
तो चढ़ने दे कन्हैया,
लड़ती है नज़र तुमसें,
तो लड़ने दे कन्हैया।।



दीवार हर गिरा दो,

होने दो मिलन अपना,
क्यों रोकते कदम हो,
इन्हे बढ़ने दो कन्हैया,
तेरे नाम का नशा है,
तो चढ़ने दे कन्हैया,
लड़ती है नज़र तुमसें,
तो लड़ने दे कन्हैया।।



मुझे आम नहीं समझो,

मैं ‘बेधड़क’ हूँ आशिक,
हम प्यार कर रहे हैं,
तो करने दो कन्हैया,
तेरे नाम का नशा है,
तो चढ़ने दे कन्हैया,
लड़ती है नज़र तुमसें,
तो लड़ने दे कन्हैया।।



लड़ती है नज़र तुमसे,
तो लड़ने दे कन्हैया,
तेरे नाम का नशा है,
तो चढ़ने दे कन्हैया,
लड़ती है नज़र तुमसें,
तो लड़ने दे कन्हैया।।

Singer – Ishrat Jahan


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें