क्यों डरूं जब हाथ मेरा श्याम के हाथों में है भजन लिरिक्स

भक्तो की बिगड़ी बनाना,
श्याम के हाथों में है,
क्यों डरूं जब हाथ मेरा,
श्याम के हाथों में है।bd।

तर्ज – हर करम अपना करेंगे।



तेरी नैया तू ही खिवैया,

तू ही पालनहार है,
बेफिक्र हूँ मैं मौज में,
तू जो तारणहार है,
अब डुबोना या बचाना,
श्याम के हाथों में है,
क्यों डरूँ जब हाथ मेरा,
श्याम के हाथों में है।bd।



खेल डाले दाव सारे,

मैंने तेरे नाम पे,
है यकीं पूरा मुझे तो,
खाटू वाले श्याम पे,
हारी बाजी को जिताना,
श्याम के हाथों में है,
क्यों डरूँ जब हाथ मेरा,
श्याम के हाथों में है।bd।



है नहीं चाहत ‘सचिन’ की,

मतलबी संसार से,
जो भी माँगा पा लिया है,
श्याम के दरबार से,
मेरी खुशियों का खजाना,
Bhajan Diary Lyrics,
श्याम के हाथों में है,
क्यों डरूँ जब हाथ मेरा,
श्याम के हाथों में है।bd।



भक्तो की बिगड़ी बनाना,

श्याम के हाथों में है,
क्यों डरूं जब हाथ मेरा,
श्याम के हाथों में है।bd।

Singer – Raju Mahraj Pagal


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें