भजमन राधे गोविन्दम भजन लिरिक्स

भजमन राधे गोविन्दम,
राधे राधे राधे गोविन्दम।।

तर्ज – हर हर शम्भू।



श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी,

हे नाथ नारायण वासुदेवा,
पितु मात स्वामी सखा हमारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,
भजमन राधें गोविन्दम,
राधे राधे राधे गोविन्दम।।



बंदी गृह के तुम अवतारी,

कहीं जन्मे कहीं पले मुरारी,
गोकुल में चमके मथुरा के तारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,
भजमन राधें गोविन्दम,
राधे राधे राधे गोविन्दम।।



गीता में उपदेश सुनाया,

धर्म युद्ध को धर्म बताया,
अमर है गीता के बोल सारे,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,
भजमन राधें गोविन्दम,
राधे राधे राधे गोविन्दम।।



अधर पे बंशी ह्रदय में राधे,

बट गए दोनों में आधे आधे,
हे राधा नागर हे भक्त वत्सल,
हे नाथ नारायण वासुदेवा,
भजमन राधें गोविन्दम,
राधे राधे राधे गोविन्दम।।



भजमन राधे गोविन्दम,

राधे राधे राधे गोविन्दम।।

Singer – Kapil Bansal & Bhawna Bansal


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें