क्यों पीछे पीछे आवे तोहे श्याम लाज ना आवे भजन लिरिक्स

क्यों पीछे पीछे आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यूँ पीछे पीछे आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यों बच बच राधे जावे,
तू श्याम के मन को भावे।।

तर्ज – होली खेल रहे नन्दलाल।



तू है बदनाम निखट्टू,

ना होऊं तुझपे लट्टू,
तू सबसे नैन लड़ाये,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यूँ पीछे पीछे आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे।।



मैं सीधो सादो ग्वाला,

नन्द और यशोदा को लाला,
तोहे कौन ये बात पढ़ाए,
तू श्याम के मन को भावे,
क्यों बच बच राधे जावे,
तू श्याम के मन को भावे।।



तू माखनचोर चुरैया,

ग्वालन को रास रचैया,
यमुना पे चिर चुराए,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यूँ पीछे पीछे आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे।।



तेरी मेरी बनी है जोड़ी,

मैं चंदा तू है चकोरी,
बेकार में बात बढ़ाए,
तू श्याम के मन को भावे,
क्यों बच बच राधे जावे,
तू श्याम के मन को भावे।।



क्यों पीछे पीछे आवे,

तोहे श्याम लाज ना आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यूँ पीछे पीछे आवे,
तोहे श्याम लाज ना आवे,
क्यों बच बच राधे जावे,
तू श्याम के मन को भावे।।

– Singer –
Lata Dahima & Tushar Sharma


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें