खूब है तेरा मुझपे अहसान सांवरे भजन लिरिक्स

खूब है तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।

तर्ज – हम तुम्हारे है तुम्हारे सनम।



खूब है तेरा मुझपे,

अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे,
तुमसे ही जुडी,
मेरी पहचान सांवरे,
पहचान सांवरे,
खूब है तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।



मेरी जिंदगी में पहले,

दुखड़े हजार थे,
मजबूरियों के आगे,
हम लाचार थे,
तुमने ही दिया,
मुझे सम्मान सांवरे,
सम्मान सांवरे,
सम्मान सांवरे,
खूब हैं तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।



हर एक सांस तेरी,

सेवा में बिताऊं,
हारे हुओ का भी मैं भी,
साथ निभाऊं,
एक बस यही,
मेरा अरमान सांवरे,
अरमान सांवरे,
अरमान सांवरे,
खूब हैं तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।



फर्श से उठाके हमको,

अर्श पे बिठाया,
कीमत नहीं थी कुछ भी,
कीमती बनाया,
तेरे ‘मोहित’ को तुझपे,
अभिमान सांवरे,
अभिमान सांवरे,
खूब हैं तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।



खूब हैं तेरा मुझपे,

अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे,
तुमसे ही जुडी,
मेरी पहचान सांवरे,
पहचान सांवरे,
खूब है तेरा मुझपे,
अहसान सांवरे,
अहसान सांवरे।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें