खाटु में बिराजे म्हारा बाबा श्याम जी भजन लिरिक्स

खाटु में बिराजे म्हारा बाबा श्याम जी भजन लिरिक्स

खाटु में बिराजे म्हारा,
बाबा श्याम जी,
ओ दुनिया,
दुनिया दर्शन करने आवे,
सुनकर थारो नाम जी,
थारो नाम जी ओ बाबा,
थारो नाम जी,
दुनिया दर्शन करने आवे,
सुनकर थारो नाम जी।।

तर्ज – पल्लो लटके।



मकराणे को मंदिर थारो,

ध्वजा फरुखे भारी,
दायी भुजा गोपीनाथ विराजे,
बायीं भुजा त्रिपुरारी,
ओ थारे,
ओ थारे डोड्या हनुमत नाचे,
म्हारा बाबा श्याम जी।।



केसरिया थारे बागो सोवे,

गले पुष्पन की माला,
मोरछड़ी थारे हाथा सोवे,
भगता रा रखवाला,
ओ थारे,
ओ थारे लीले की असवारी,
म्हारा बाबा श्याम जी।।



फागण के मेले के माहि,

भगत नाचता आवे,
नाचत कूदत जावे धाम में,
चरणा शीश नवावे,
ओ थारे,
ओ थारे गा गा कर रिझावे,
म्हारा बाबा श्याम जी।।



श्याम भगत थारी महिमा गावे,

सुणलो जी गिरधारी,
सबका संकट मिटो बाबा,
शरण पड़्या हाँ थारी,
ओ थारा,
ओ थारा रामकिशन गुण गावे,
म्हारा बाबा श्याम जी।।



खाटु में बिराजे म्हारा,

बाबा श्याम जी,
ओ दुनिया,
ओ दुनिया दर्शन करने आवे,
सुनकर थारो नाम जी,
थारो नाम जी ओ बाबा,
थारो नाम जी,
दुनिया दर्शन करने आवे,
सुनकर थारो नाम जी।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें