खाटू का श्याम धणी हारे का सहारा है भजन लिरिक्स

खाटू का श्याम धणी हारे का सहारा है भजन लिरिक्स

खाटू का श्याम धणी,
हारे का सहारा है,
होती सुनाई उनकी,
होती सुनाई उनकी,
जो किस्मत का मारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।

तर्ज – बाबुल का ये घर बहना।



अर्जी लगा के देख,

दिल की सुना के देख,
दुखो से मिल जाएगा,
तुझको छुटकारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।



तूफान में कश्ती,

गर तेरी जो फस जाए,
बन जाए माझी ये,
आके देता किनारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।



दानी ना इस जैसा,

जाने ये जग सारा,
कलयुग का सेठ सांवरा,
भरे दिनों का भंडारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।



बड़ी मेहरबानी तेरी,

जो तेरी शरण में हूँ,
‘रूबी रिधम’ का प्रभु,
तूने जीवन संवारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।



खाटू का श्याम धणी,

हारे का सहारा है,
होती सुनाई उनकी,
होती सुनाई उनकी,
जो किस्मत का मारा है,
खाटु का श्याम धणी,
हारे का सहारा है।।

Singer : Aarti Virmani


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें