कन्हैया मेरी लाज रखना भजन लिरिक्स

कन्हैया मेरी लाज रखना भजन लिरिक्स

एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैया मेरी लाज रखना,
मैने सब कुछ तुमको ही माना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।

तर्ज – तू माने या ना माने दिलदारा।



जीवन सफ़र में जब भी मैं हारूँ,

तब मैं कन्हैया तुमको पुकारूँ,
बनके साथी दौड़े चले आना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।



दिल रो रहा है लब मुस्कुराएँ,

तू सब जानता है तुझे क्या बतायें,
क्या हक़ीक़त है क्या है फसाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।



मोह माया का लोभ ना देना,

मुझको झूठा रोब ना देना,
मेरे ऐबो से मुझको बचाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।



झूठे भरोसे दुनिया दिलाए,

वक़्त पे कोई काम ना आए,
माधव रुक ना जाना करके बहाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।



एक तू ही मेरा जग बेगाना,

कन्हैया मेरी लाज रखना,
मैने सब कुछ तुमको ही माना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना,
एक तू ही मेरा जग बेगाना,
कन्हैंया मेरी लाज रखना।।

स्वर – रेशमी जी शर्मा।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें