कन्हैया हर घडी मुझको तुम्हारी याद आती है भजन लिरिक्स

कन्हैया हर घडी मुझको,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है।।

तर्ज – वो लड़की याद आती है।



तुम्हारी याद में मोहन,

ना हमको नींद आती है,
ये दुनिया की चमक प्यारे,
हमें भी ना सुहाती है,
मेरे दिल से मेरे मोहन,
सदा इतनी सी आती है,
कन्हैया की हूँ मैं जोगन,
मुझे इतना बताती है,
तुझे हरदम बुलाती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है।।



जो कुछ भी था दिया तुमने,

वही तुमको चढ़ाते है,
है मेरी आँख में आंसू,
यही तुमको दिखाते है,
भगत की आँख में आंसू,
ना मोहन देख पाते है,
तेरी उल्फत के बिंदु है,
यही तुमको बताते है,
मुझे हरदम जलाती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है।।



दया कर दो मेरे मोहन,

तुम्ही दाता कहाते हो,
नैनो में नीर है मेरे,
मुझे तुम क्यूँ रुलाते हो,
चले आओ मेरे मोहन,
तड़प अब सह ना पाई है,
मेरे जीवन की सांसो ने,
तुम्हारी महिमा गाई है,
‘यश’ को दर खिंच लाती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है।।



कन्हैया हर घडी मुझको,

तुम्हारी याद आती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है,
मुझे मोहन रुलाती है,
तुम्हारी याद आती है।।

Singer : Vimal Dixit Pagal


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

कलयुग का राजा है खाटू का बाबा श्याम भजन लिरिक्स

कलयुग का राजा है खाटू का बाबा श्याम भजन लिरिक्स

कलयुग का राजा है, खाटू का बाबा श्याम, हारेगा ना वो जपेगा, जो इनका नाम, कलयुग का राजा हैं, खाटू का बाबा श्याम।। तर्ज – सांसो की माला पे सिमरु…

तेरे जैसा राम भगत कोई हुआ ना होगा मतवाला भजन लिरिक्स

तेरे जैसा राम भगत कोई हुआ ना होगा मतवाला भजन लिरिक्स

तेरे जैसा राम भगत, कोई हुआ ना होगा मतवाला, एक जरा सी बात की खातिर, सीना फाड़ दिखा डाला।। तर्ज – क्या मिलिए ऐसे लोगो। आज अवध की शोभी लगती,…

इस मतलब की दुनिया में कही मिलता सच्चा प्यार नहीं

इस मतलब की दुनिया में कही मिलता सच्चा प्यार नहीं

इस मतलब की दुनिया में, कही मिलता सच्चा प्यार नहीं, देख बनाकर श्याम को साथी, इनसे सच्चा यार नहीं, इस मतलब की दुनिया में।। तर्ज – भला किसी का कर…

अरे माखन की चोरी छोड़ साँवरे मैं समझाऊँ तोय भजन लिरिक्स

अरे माखन की चोरी छोड़ साँवरे मैं समझाऊँ तोय भजन लिरिक्स

अरे माखन की चोरी छोड़, साँवरे मैं समझाऊँ तोय, मैं समझाऊँ तोय, कन्हैया मैं समझाऊँ तोय, अरें माखन की चोरी छोड़, साँवरे मैं समझाऊँ तोय।। नव लख धेनु तेरे बाबा…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “कन्हैया हर घडी मुझको तुम्हारी याद आती है भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे