जितना राधा रोई कान्हा के लिए भजन लिरिक्स

जितना राधा रोई,
रोई कान्हा के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।



यार की हालत देखि,

उसकी हालत पे रोया,
यार के आगे अपनी,
शानो-शौकत पे रोया,
ऐसे तड़पा तड़पे शमा,
परवाने के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।



पाँव के छाले देखे,

तो दुःख के मारे रोया,
पाँव धोने के खातिर,
ख़ुशी के मारे रोया,
आंसू थे भरपाई,
अब तो जीने के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।



उसके आने से रोया,

उसके जाने से रोया,
होक गदगद चावल के,
दाने दाने पे रोया,
बनवारी वो रोया,
बस याराना के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।

बोला वो हो मतवाला,
यार मेरा मुरली वाला।



जितना राधा रोई,

रोई कान्हा के लिए,
कन्हैया उतना रोया,
रोया है सुदामा के लिए।।


3 टिप्पणी

  1. Hamein bhajan bahut accha laga Hum Ye bhajan sunkar ke Aye Hamare man mein Main Aansu aa gaya ki Prabhu Agar RO sakte hain Sudama ke liye Hum Insaan Bhagwan ke liye kyon nahi roh sakte hain

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें