जिसकी नैया श्याम भरोसे भजन लिरिक्स

जिसकी नैया श्याम भरोसे,
जिसकी नैया श्याम भरोसें,
डोल भले सकती है,
डूब नहीं सकती है।।

तर्ज – मेरे नैना सावन भादों।



मत घबराना तू,

संकट आएँगे,
मत घबराना तू,
संकट आएँगे,
संकट भी एक दिन,
जान ये जाएंगे,
तू है प्रेमी श्याम धणी का,
तुझपे असर ना होगा,
बाल ना बांका होगा,
देर भले हो जाए गाडी,
छूट नहीं सकती है,
ओ नैया डूब नहीं सकती है,
जिसकी नैया श्याम भरोसें,
डोल भले सकती है,
डूब नहीं सकती है।।



दर्द भरे बादल,

जब घिर जाएंगे,
दर्द भरे बादल,
जब घिर जाएंगे,
साथ जो थे हरदम,
नजर ना आएँगे,
उन घड़ियों में खाटु वाला,
लीले चढ़ जाएगा,
पल में वो आएगा,
नजर ना आएँगे,
उन घड़ियों में खाटु वाला,
लीले चढ़ जाएगा,
आया है आएगा,
भरी सभा में उनकी इज्जत,
लूट नहीं सकती है,
ओ नैया डूब नहीं सकती है,
जिसकी नैया श्याम भरोसें,
डोल भले सकती है,
डूब नहीं सकती है।।



इनकी कृपा होगी,

जीवन महकेगा,
सूना घर तेरा,
एक दिन चमकेगा,
तुझ पर ताना कसने वाले,
कुछ ना कह पाएंगे,
चुप वो हो जाएंगे,
‘शुभम रूपम’ किस्मत भी उनसे,
रूठ नहीं सकती है,
जिसकी नैया श्याम भरोसें,
डोल भले सकती है,
डूब नहीं सकती है।।



जिसकी नैया श्याम भरोसे,

जिसकी नैया श्याम भरोसें,
डोल भले सकती है,
डूब नहीं सकती है।।

Singer – Shubham Rupam
– Suggested By –
अनुज कुमार मीणा
मोब. – 9414695507


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें