झूम झूम के आयी झूम झूम के माता भजन लिरिक्स

झूम झूम के आयी झूम झूम के,
सिंघ बैठी आई मोरी मैया।।



सांचे मन से माँ को पुकारो,

दौड़ी दौड़ी आयें मोरी मैया,
झूम झूम के आईं झूम झूम के,
झूम झूम के आईं झूम झूम के।।



न फूल पाती न भोजन थाली,

भाव की भूखी हैं मोरी मैया,
झूम झूम के आईं झूम झूम के,
झूम झूम के आईं झूम झूम के।।



न चौंकी कोई न रेशम की आसन,

हिरदय में वो तो विराजे मोरी मैया,
झूम झूम के आईं झूम झूम के,
झूम झूम के आईं झूम झूम के।।



‘राजेन्द्र’ दर्शन की आशा लगी है,

सो सिंघ पे बैठी आयें मोरी मैया,
झूम झूम के आईं झूम झूम के,
झूम झूम के आईं झूम झूम के।।



झूम झूम के आयी झूम झूम के,

सिंघ बैठी आई मोरी मैया।।

गीतकार/गायक – राजेन्द्र प्रसाद सोनी।
8839262340


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें