जय हो तेरी ताप्ती माई मां के मंदिर से ज्योति लहराई

जय हो तेरी ताप्ती माई,
मां के मंदिर से ज्योति लहराई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



बादाम खारक हरे कंगन,

हाथ में श्रीफल लगे चंदन,
तुम सारे जगत की हो महामाई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



मुलताई में तेरे लगे मेले,

भक्त तेरे मां अलबेले,
सब भक्तों के लिए मां वरदाई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



हमें इस दुनिया का डर ही नही,

तेरे सिवा कुछ और नहीं,
कृपा भक्तों पर तूने मां बरसाई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



लाल चुनरिया लाल है चोला,

और माथे पर चमके बिंदिया,
सारे भक्तों की तुम हो महामाई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



प्यासे हैं नैना तेरे दीदार के,

भटक रहे हैं भूखे मां प्यार के,
आस दर्शन की मन में है लगाई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।



जय हो तेरी ताप्ती माई,

मां के मंदिर से ज्योति लहराई,
जय हों तेरी ताप्ती मांई।।

गायक – पवन कुमार साहू मुलताई
9617171315


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें