प्रथम पेज राजस्थानी भजन जन्म लियो जाने मरणो पड़सी मौत नगारो सिर फूटे ओ

जन्म लियो जाने मरणो पड़सी मौत नगारो सिर फूटे ओ

जन्म लियो जाने मरणो पड़सी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ,
लाख उपाय करों मन कितना,
बिना रे भजन नहीं छूटेओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



यम राजा को आयो जुलनो,

प्राण पलक माही छूटे ओ,
हिचकी हाल हचीड़ो चालो पछ,
नाड तडा तड़ टूटे ओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



जीव ले जब जमडो चालें,

क्रोध कर कर फूटे ओ,
गुरजारी घमसान मचावे,
तुरन्त तालवो फूटो ओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



जीव लेजार नरक माई डालें,

कीड़ा कागला चुटे ओ,
बुगतलो जीव भजन बिना भाई म्हारा,
जमराजा जुग जुग फूटो ओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



भाई बन्धु थारो कुटम कबीलों,

राम जी रूटया सब रूटे ओ,
कर्मा रा खोटा है बन्दधन,
राम भजन से छूटे ओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



राम भजन कर सुकृत कर ले,

भंवरा बंधन छूटे ओ,
कहत कबीर सुख चावे जीव को,
राम नाम धन लूटे ओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।



जन्म लियो जाने मरणो पड़सी,

मौत नगारो सिर फूटे ओ,
लाख उपाय करों मन कितना,
बिना रे भजन नहीं छूटेओ,
जन्म लियो जाने मरणो पडसी,
मौत नगारो सिर फूटे ओ।।

गायक – चंपालाल करीर।
प्रेषक – सुभाष सारस्वत काकड़ा।
9024909170


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।