प्रथम पेज राजस्थानी भजन जालोरी रा पीर केवाया ओ शान्तिनाथ जी भजन लिरिक्स

जालोरी रा पीर केवाया ओ शान्तिनाथ जी भजन लिरिक्स

जालोरी रा पीर केवाया ओ,
नाथजी जालोंरी रा पीर केवाया ओ,
शांतिनाथ जी अमर पद पाया ओ,
राज म्हारा पीरजी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



गाँव भागली मे जन्म धरायो रे,

रावत सिंह जी एतो पिताजी केवाया रे,
माता सिन्गारी केवाया ओ,
पीरजी सखीया वो मंगला गाया ओ,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



पिताजी तो लेने आया,

गुरूजी रे चरना मे,
केसर नाथजी आगे,
अर्पण कर दीना रे.
ए गुरू काना मे तो कुण्डल पहराया ओ,
गुरूजी भगवा तो भेट पहराया ओ,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



तन मन धन सु गुरूजी,

सेवा मे रहता ओ,
केसर नाथजी तो,
अमर पद पायो ओ,
पीठाधीश आपने बनायो ओ,
नाथजी भगत घनेरा हर्षाया ओ,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



गोरक्ष नाथजी अटे,

धूनो रे धुकायो रे,
राजा मान भले,
भगती कमायो रे,
नाथ संप्रदाय आपनाया रे एतो,
नाथ संप्रदाय आपनाया रे,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



मारवाड़ जालोर माई,

राज थे करायो रे,
बत्तीस चौमासा कर,
जगत जगायो रे,
पग पग परचा दिराया रे नाथजी,
भोला भगता पर महर करायो रे,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



आप नाथजी म्हारा,

शिव मे समाया रे,
अलख समाधियाँ मे,
आसन धरायो रे,
जोरावर भजन बनायो रे पीरजी,
‘श्याम पालीवाल’ गुण गायो रे,
म्हारा पीरजी ए सत्यलोक सु,
आया ओ राज शांतिनाथ जी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।



जालोरी रा पीर केवाया ओ,

नाथजी जालोंरी रा पीर केवाया ओ,
शांतिनाथ जी अमर पद पाया ओ,
राज म्हारा पीरजी,
भगतो रे मन भाया ओ राज।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।