जगत सेठाणी म्हारी दादी माँ कुहावे भजन लिरिक्स

जगत सेठाणी म्हारी,
दादी माँ कुहावे,
मोटी ये सेठाणी म्हारी,
नारायणी कुहावे,
जो भी मंगल करावे,
जो भी चुनड़ी चढ़ाए,
मालामाल करसी,
झोली भरसी,
जगत सेठानी म्हारी,
दादी माँ कुहावे।।

तर्ज – कौन दिशा में।



झुंझन वाली मावडी को,

जो भी लाड़ लड़ावेगो,
सुख सम्पति धन वैभव यश,
वो जीवन भर पावेगो,
मंगल करणी मंगल करसी,
मंगल करणी मंगल करसी,
घर में धन ना समावेगो,
दादी की किरपा,
उन पे बरसती,
जो भी मंगल करावे,
जो भी चुनड़ी चढ़ाए,
मालामाल करसी,
झोली भरसी,
जगत सेठानी म्हारी,
दादी माँ कुहावे।।



नारायणी की छवि,

है अति प्यारी,
ममता नैनो से छलक रही,
जितनो निहारूँ,
मुखडो यो प्यारो,
प्यास नैना की नाही बुझ रही,
प्यास बुझा दो दरश करा दो,
प्यास बुझा दो दरश करा दो,
‘रेणु बबिता’ बलिहार से,
थारी ही सेवा में,
सारी उमर गुजारूं,
जो भी मंगल करावे,
जो भी चुनड़ी चढ़ाए,
मालामाल करसी,
झोली भरसी,
जगत सेठानी म्हारी,
दादी माँ कुहावे।।



जगत सेठाणी म्हारी,

दादी माँ कुहावे,
मोटी ये सेठाणी म्हारी,
नारायणी कुहावे,
जो भी मंगल करावे,
जो भी चुनड़ी चढ़ाए,
मालामाल करसी,
झोली भरसी,
जगत सेठानी म्हारी,
दादी माँ कुहावे।।

स्वर – बबीता जी विश्वास।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सुन्दर सज़ा दरबार मैया का मैं दीवानी हो गई भजन लिरिक्स

सुन्दर सज़ा दरबार मैया का मैं दीवानी हो गई भजन लिरिक्स

सुन्दर सज़ा दरबार मैया का, मैं दीवानी हो गई, मैं दीवानी हो गई, मैया, मैं दीवानी हो गई, प्यारा सज़ा दरबार मैया का, मैं दीवानी हो गई।। तर्ज – सांवली…

आजा माँ आजा माँ एक बार मेरे घर आ जा माँ लिरिक्स

आजा माँ आजा माँ एक बार मेरे घर आ जा माँ लिरिक्स

आजा माँ आजा माँ एक बार, मेरे घर आजा माँ, मैंने मन मंदिर में मैया, तेरी ज्योत जगाई, करके शेर सवारी, आजा इक बारी महामाई, आजा मां आजा मां एक…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे