जब जब तुझको देखूं दिल में आता है यह ख्याल क्यों

जब जब तुझको देखूं दिल में आता है यह ख्याल क्यों

जब जब तुझको देखूं दिल में,
आता है यह ख्याल क्यों,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं।।

तर्ज – वाह वाह क्या बात है।



भोला भाला मुखड़ा तेरा,

देख दीवाना हो जाऊं,
नजर नहीं हटती तुम पर से,
दिल चाहे देखे जाऊं,
मन करता मैं हंसते हंसते,
मन करता मैं हंसते हंसते,
दिल में इसे उतार लूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं।।



कहते हैं अपनों की नजर ही,

सबसे पहले लगती है,
नजर ना लगे तुमको मेरी,
दिल में चिंता रहती है,
जतन करूं मैं कौन सा बाबा,
जतन करूं मैं कौन सा बाबा,
बतला दे एक बार तू,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं।।



हीरा मोती सोना चांदी,

बाबा मेरे पास नहीं,
कैसे नजर उतारू तेरी,
‘सोनू’ की औकात नहीं,
अगर कहे तो तन मन अपना,
अगर कहे तो तन मन अपना,
तेरे ऊपर वार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं।।



जब जब तुझको देखूं दिल में,

आता है यह ख्याल क्यों,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं,
नजरें उतार दूं, नजरें उतार दूं।।

Singer: Vivek Agarwal


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें