हाथ करताल तंबूरो बजाई रई निमाड़ी मीराबाई भजन

हाथ करताल तंबूरो बजाई रई,
साधु न की संग म,
मीरा भजन करी रई।।



माथा की बिंदिया,

महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
चंदन लगाई न,
माथा ख सजाई रई,
साधु न की संग म,
मीरा भजन करी रई।।



नवलख माला,

महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
तुलसी की माला,
गला म सजाई रई,
साधु न की संग म,
मीरा भजन करी रई।।



पांव की पायल,

महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
महल म भूली आई,
घुंघरू बांधी न,
पांव सजाई राई,
साधु न की संग म,
मीरा भजन करी रई।।



हाथ करताल तंबूरो बजाई रई,

साधु न की संग म,
मीरा भजन करी रई।।

गायक – शैलेन्द्र जी शास्त्री।
प्रेषक – प्रमोद पटेल
9399299349


https://youtu.be/9u-K8IaGAP8

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें