हस हस मीठो जग में बोलनो रे हंसला भजन लिरिक्स

हस हस मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला ना आय।।



अरे नदी रे किनारे रूकनो ओ,

हंसला ए जद कदी करे है विलाप,
अरे पेला जडसी पालना ओ,
पेला जडसी पालना ओ,
पचे जडो रे मुल सु जाय,
मीठो मन बोलनो रे हंसला,
फिर मिला न आय।।



पान जडता बोलीया ओ,

ए हंसला ए सुरत वाली बाण,
अरे अबके बिछ्या न मिला ओ,
अबके बिछ्या न मिला ओ,
पुरब बुर पडाला जाय,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



अरे हंस आया हंसा रे खेत मे,

ओ हंसला मूर्ख मारन जाय,
अरे हंस आया हंसा रे खेत में,
ओ हंसला अ मूर्ख मारन जाय,
अरे सुन मूर्ख तू पावना ओ,
अरे सुन मूर्ख तू पावना ओ,
हंसो पर धन नही खाय,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



रत्न तनाई जल भरीयो ओ,

ए हंसला जटे हंस राजा बैठा आय,
अरे रत्न तनाई जल भरीयो ओ,
ए हंसला जटे हंस राजा बैठा आय,
अरे प्रीत पुरानी कारने ओ,
प्रीत पुरानी कारने ओ,
अरे चुग चुग कंक खाय,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



अरे हंस आया हंसा रे पावना ओ,

ए हंसला किनरी करूँ मनवार,
अरे लाला करू बिछावना रे,
लाला करू बिछावना रे,
अरे मोतीडा री मनवार,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



अरे चौपड़ ढाली ओ चोवटे रे,

हंसला अरे खेले कोई संत सुजान,
अरे चौपड ढाली ओ चोवटे रे,
हंसला अरे खेले कोई संत सुजान,
अरे कोई एक बाजी जीत गया ओ,
अरे कोई कोई बाजी जीत गया ओ,
ए बीरा कोई कोई गया रे हार,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



अरे गंगा से यमुना बडी ओ हंसला,

अरे तिर्थ बडो है केदार,
अरे गंगा से यमुना बडी ओ हंसला,
तिर्थ बडो केदार,
अरे बाबो डूंगरपुरी बोलीया ओ,
अरे बाबो डूंगरपुरी बोलीया ओ,
ए थारो वैकुण्ठा मे वेला वास,
मीठो जग में बोलनो रे,
हंसला फिर मिला न आय।।



हस हस मीठो जग में बोलनो रे,

हंसला फिर मिला ना आय।।

गायक – शंकर जी टाक।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें