गोवर्धन की नगरीया आओ गिरिराज के दर्शन पाओ लिरिक्स

गोवर्धन की नगरीया आओ,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की परिक्रमा लगा लो,
सोया भाग्य तुम अपना जगा लो।।

तर्ज – म्हारा कीर्तन में रस बरसाओ।



मानसी गंगा बहे यहाँ पे,

सबसे पहले यहाँ पर नहाओ,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की नगरीया आओं,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ।।



सात कोस की करो परिक्रमा,

दानघाटी पे दूध चढ़ाओ,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की नगरीया आओं,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ।।



मुड़िया पूनो का मेला यहाँ लगता,

कृष्ण भक्ति का फल यहाँ पाओ,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की नगरीया आओं,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ।।



राधा रानी बिरज महारानी,

इनकी सेवा से आनंद मनाओ,
भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की नगरीया आओं,
भक्तो आओ,
Bhajan Diary,

गिरिराज के दर्शन पाओ।।



गोवर्धन की नगरीया आओ,

भक्तो आओ,
गिरिराज के दर्शन पाओ,
गोवर्धन की परिक्रमा लगा लो,
सोया भाग्य तुम अपना जगा लो।।

Singer – Mukesh Kumar