पहचान सके तो पहचान घट घट में बसे है भगवान

पहचान सके तो पहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।



चंदा की चांदनी,

सूरज की रोशनी,
तारो की झील मिलजन,
जिनकी शोभा अगम अपार,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।



बिना रे सत के चले ना धरती,

बिन थंभे आसमान,
जिनकी महिमा वरणी न जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।



राम बिना मेरी सुनी अयोद्धया,

बिन राधा घनश्याम,
जिनकी शोभा वरणी न जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।



तुलसी दास आश रघुवर की,

थारो जन्म सफल हो जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।



पहचान सके तो पहचान,

घट घट में बसे है भगवान।।

– गायक & प्रेषक –
श्यामनिवास जी
9024989481


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

संतो में एक संत हुए है काशीपुर महाराज भजन लिरिक्स

संतो में एक संत हुए है काशीपुर महाराज भजन लिरिक्स

संतो में एक संत हुए है, काशीपुर महाराज, जिनकी गूलर बडी है धाम, जिनकी गूलर बडी है धाम।। तर्ज – देख तेरे संसार की हालत। मींगसर सुधी दशमी का जाया,…

फागण आयो है रंगीलो रंग डारो श्याम जी भजन लिरिक्स

फागण आयो है रंगीलो रंग डारो श्याम जी भजन लिरिक्स

फागण आयो है रंगीलो, रंग डारो श्याम जी, रंग डारो श्याम जी, सारे भगता के भाग, सवारों श्याम जी, सारे भगता के भाग, सवारों श्याम जी।। तर्ज – मीठे रस…

उज्जैन नगरी में बैठ्यो पिये मद प्याला लिरिक्स

उज्जैन नगरी में बैठ्यो पिये मद प्याला लिरिक्स

काशी विश्वनाथ महादेव, को तू भैरू मतवाला, उज्जैन नगरी में बैठ्यो, पिये मद प्याला।। ब्रम्हा विष्णु शिवजी में कुछ, चाल रह्यो संवाद, कुण बड़ो कुण छोटो, तिन्या में सु कर्या…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “पहचान सके तो पहचान घट घट में बसे है भगवान”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे