गाया वाला कानजी ओ थारी गाया ने पाछी गेर

गाया वाला कानजी ओ,

दोहा – राधे तू बडीभागनी,
रे कौन तपस्या किन,
तीन लोक तारंतीरन,
सोहे तेरे आधीन।

गाया वाला कानजी ओ,
ए थारी गाया ने पाछी गेर,
कुँए पर एकली ओ,
ए थारी गाया ने पाछी गेर,
कुँए पर एकली ओ।।



ए बंशी वाला कानजी ओ,

अरे बंशी वाला कानजी ओ,
ए थारी बंशी ने होले रे बजाय,
कुँए पर एकली ओ,
ए थारी बंशी ने होले रे बजाय,
कुँए पर एकली ओ,
एकली ओ एकली ओ,
ए थारी बंशी ने होले रे बजाय,
कुँए पर एकली ओ।।



ए गढ़ गोकुल रा कानजी ओ,

ए गढ़ गोकुल रा कानजी ओ,
ए माने लडे छे माने लडे छे,
लडे छे देवर जेठ,
कुँए पर एकली ओ,
एकली ओ एकली ओ,
माने लडे छे देवर जेठ,
कुँए पर एकली ओ।।



ए गढ मथुरा रा कानजी ओ,

ए गढ़ मथुरा रा कानजी ओ,
ए मेतो जोवा ए मेतो जोवा रे,
मेतो जोवा थारी बाट,
कुँए पर एकली ओ,
एकली ओ एकली ओ,
मै तो जोवा थारी बाट,
कुँए पर एकली ओ।।



ए गढ़ गोकुल रा कानजी ओ,

ए गढ़ गोकुल रा कानजी ओ,
ए थारी राधा ए थारी राधा,
छबीली जोवे बाट,
कुँए पर एकली ओ,
एकली ओ एकली ओ,
थारी राधा रे छबीली,
जोवे बाट कुँए पर एकली ओ।।



ए प्रकाश माली री भावना ओ,

ए प्रकाश इन्द्र री भावना ओ,
ए माने लिजो ए माने लिजो रे,
ए माने लिजो कंठ लगाय,
कुँए पर एकली ओ,
एकली ओ एकली ओ,
ओ माने लिजो कंठ लगाय,
कुँए पर एकली ओ।।



गाया वाला कानजी ओ,

ए थारी गाया ने पाछी गेर,
कुँए पर एकली ओ,
ए थारी गाया ने पाछी गेर,
कुँए पर एकली ओ।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

सेवा म्हारी मानो जी गणपति देवा भजन लिरिक्स

सेवा म्हारी मानो जी गणपति देवा भजन लिरिक्स

सेवा म्हारी मानो जी गणपति देवा, खोलो म्हारा हिरदा रा ताला जी।। जल चढ़ाऊँ देवा नहीं है अछूता, जल ने तो मछियां बंटा लिया है जी, सेवा म्हारी मानों जी।।…

थारी सोगन कानूडो बदमाश रे भजन लिरिक्स

थारी सोगन कानूडो बदमाश रे भजन लिरिक्स

थारी सोगन कानूडो बदमाश रे, मारो माखन खाबा में नीका दास रे।। थारी सोगन कानूड़ो यो बदलग्यो, मन माखन बेचती ने मिलग्यो, थारी सोगन कानूड़ो बदमाश रे, मारो माखन खाबा…

झरमर झालो रे माय उडते पंखेरू विवाह मोंडीयो

झरमर झालो रे माय उडते पंखेरू विवाह मोंडीयो

झरमर झालो रे माय, उडते पंखेरू विवाह मोंडीयो, झरमर झालो रें माय, उडते पंखेरू विवाह मोंडीयो, बाई मारा पिसा ने परणाव, ए कवरियो बाबोसा रो लाडलो।। ए लौकी तो रोंदी…

ओ गोरे धोरा री धरती रो पिचरंग पाडा री धरती रो लिरिक्स

ओ गोरे धोरा री धरती रो पिचरंग पाडा री धरती रो लिरिक्स

ओ गोरे धोरा री धरती रो, पिचरंग पाडा री धरती रो, पितल पाथल री धरती रो, मीरा कर्मा री धरती रो, कितरो कितरो रे कराँ मैं बखाण, कण कण सूँ…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे