प्रथम पेज फिल्मी तर्ज भजन गंग बरसे भीजे औघड़दानी गंग बरसे भजन लिरिक्स

गंग बरसे भीजे औघड़दानी गंग बरसे भजन लिरिक्स

गंग बरसे भीजे औघड़दानी,
गंग बरसे,
हे गंग बरसे भीजे औघ-ड़दानी,
गंग बरसे।।

तर्ज – रंग बरसे भीजे चुनर वाली।



भांग धतूरा का भोजन बनाया,

भांग धतूरा का भोजन बनाया,
खाये भोले दातार भगत तरसे,
गंग बरसे,
गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।



गांजा और सुल्फा का चिलम भराया,

गांजा और सुल्फा का चिलम भराया,
खींचे भोले सरकार चिलम भरके,
गंग बरसे,
ओ गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।



कैलाश पर्वत पे आसन लगाया,

कैलाश पर्वत पे आसन लगाया,
‘शर्मा’ किये श्रृंगार भगत हरषे,
गंग बरसे,
ओ गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,
गंग बरसे।।



गंग बरसे भीजे औघड़-दानी,

गंग बरसे,
हो गंग बरसे भीजे औघड़दानी,
गंग बरसे।।


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।