दुःख की बदली जब जब मुझ पे छा गई माता भजन लिरिक्स

दुःख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई,
वो आ गई वो आ गई,
वो आ गई मेरी माँ,
दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई।।

तर्ज – दिल दीवाना ना जाने कब।



जब जब संकट आया है,

माँ को सामने पाया है,
दुनिया ने रिश्ते तोड़े,
इसने साथ निभाया है,
रोते हुए को हसा गई,
अपने गले लगा गई,
वो आ गई वो आ गई,
वो आ गई मेरी माँ,
दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई।।



स्वार्थ के संसार में,

तू ही एक सहारा है,
तेरे बिना इस जग में माँ,
कोई नहीं हमारा है,
हारे हुए को जीता गई,
भक्त का मान बढ़ा गई,
वो आ गई वो आ गई,
वो आ गई मेरी माँ,
दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई।।



ये सच्ची दातार है,

इसकी दया अपार है,
इसकी रहमत से चलता,
मेरा घर संसार है,
‘रजनी’ की बिगड़ी बना गई,
हर घड़ी लाज बचा गई,
वो आ गई वो आ गई,
वो आ गई मेरी माँ,
Bhajan Diary Lyrics,
दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई।।



दुःख की बदली,

जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई,
वो आ गई वो आ गई,
वो आ गई मेरी माँ,
दुख की बदली,
जब जब मुझ पे छा गई,
सिंह सवारी करके,
मैया आ गई।।

स्वर – रजनी राजस्थानी।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें