म्हारा बालाजी सालासर वाला भजन लिरिक्स

म्हारा बालाजी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।
तर्ज – सुनो हसीना काजल वाली



बाबा में चाहु दर्शन थारा,

थारे बिना अब ना होता गुजारा,
कबसे पड्यो थारे द्वार,
बाला थारो प्यार चाहिए,
म्हारा बालाजी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।



मंदिर में थारी सेवा करूँगा,

झाड़ू करूँगा तेरा पानी भरूँगा,
चाहे बीते जनम हजार,
म्हणे थारो प्यार चाहिए,
म्हारा बाला जी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।



संकट मोचन नाम है थारो,

संकट से म्हने थे ही उबारो,
म्हारा संकट देवो टार,
बाला थारो प्यार चाहिए,
म्हारा बाला जी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।



थने छोड़के बाबा और कहाँ जाऊँ,

और केहि दुखड़ो सुनाऊ,
थे ही करोगे बेडा पार,
बाला थारो प्यार चाहिए,
म्हारा बाला जी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।



दास चिरंजी चरणा रो चाकर,

भोग लगावा थने आसन बिठाकर,
विनती करा बारम्बार,
बाला थारो प्यार चाहिए,
म्हारा बाला जी सालासर वाला,
सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।



म्हारा बालाजी सालासर वाला,

सालासर लाग्यो दरबार,
बाला थारो प्यार चाहिए।।

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें