दिलदार कन्हैया से नाता जो पुराना है भजन लिरिक्स

दिलदार कन्हैया से,
नाता जो पुराना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।

तर्ज – बचपन की मोहब्बत।



जब दाव लगाया है,

क्या बात है डरने की,
मुद्दत से जो आई है,
ये रात है मिलने की,
उस धेनु चरैया से,
दुःख दर्द सुनाना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।



चूका तू अगर मौका,

धोखा रह जाएगा,
ठोकर मत खा जाना,
वरना पछताएगा,
यादें गिरधारी की,
तेरा माल खजाना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।



जो उस जीवन धन से,

वादा करके आया,
क्यों माया में फसके,
पगले तू भरमाया,
हर क़ुरबानी देकर,
प्रीतम को रिझाना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।



‘शिव श्याम बहादुर’ का,

हरदम वो कन्हैया है,
पतवार उसे सौंपी,
घनश्याम खिवैया है,
मिलकर सतसंगत का,
एक बाग़ लगाना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।



दिलदार कन्हैया से,

नाता जो पुराना है,
अंतिम स्वासों तक इस,
रिश्ते को निभाना है।।

Singer – Ravi Sharma “Sooraj”
Lyricist – Shyam Bahadur Ji (Shiv)


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भूल से भी ना भुलाना श्याम वादा कीजिए भजन लिरिक्स

भूल से भी ना भुलाना श्याम वादा कीजिए भजन लिरिक्स

भूल से भी ना भुलाना, श्याम वादा कीजिए, प्रेम कर अब प्रेमियों से, मत किनारा कीजिए, भुल से भी ना भुलाना, श्याम वादा कीजिए।। तर्ज – दिल ही दिल में…

जिस रथ पे बैठ श्री श्याम प्रभु भजन लिरिक्स

जिस रथ पे बैठ श्री श्याम प्रभु भजन लिरिक्स

जिस रथ पे बैठ श्री श्याम प्रभु, बनडा बनकर मुस्काता है, खुशियां उस और बरसती है, ये जिधर जिधर भी जाता है, जिस रथ पे बैंठ श्री श्याम प्रभु।। जय…

हार के श्याम बाबा मैं तेरे दरबार बैठा हूँ भजन लिरिक्स

हार के श्याम बाबा मैं तेरे दरबार बैठा हूँ भजन लिरिक्स

दुरंगे इस ज़माने से, मैं हिम्मत हार बैठा हूँ, ठोकरें खा के दर दर की, मैं हो लाचार बैठा हूँ, चूर सपने हुए सारे, चली जब वक्त की आंधी, हार…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे