प्रथम पेज कृष्ण भजन डंका बाज रहा कलयुग में घर घर बाबा श्याम का लिरिक्स

डंका बाज रहा कलयुग में घर घर बाबा श्याम का लिरिक्स

डंका बाज रहा कलयुग में,
घर घर बाबा श्याम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का।।

तर्ज – क्या मिलिए ऐसे लोगो से।



खाटू की पावन गलियों में,

गूंज रहा जयकारा है,
शीश का दानी लखदातारी,
बाबा श्याम हमारा है,
दूर करे जो अंधियारे को,
श्याम नाम बड़े काम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का।।



जब भी करी फरियाद श्याम से,

लीले चढ़कर आया है,
भक्तों की नैया को मेरे,
श्याम ने पार लगाया है,
उसकी नैया कभी ना डूबे,
जिसे सहारा श्याम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का।।



आता जो भी श्याम शरण में,

होता भव से पार है,
हारे का ये साथी बाबा,
सब का खेवनहार है,
कहता प्रेमी श्याम बिना ये,
जीवन है किस काम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का।।



डंका बाज रहा कलयुग में,

घर घर बाबा श्याम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का,
आओ मिलकर सभी जलाये,
एक दीप मेरे श्याम का।।

प्रेषक – अंकुर अग्रवाल
9837363800


3 टिप्पणी

  1. बहुत ही सुंदर भाव, बहुत ही अच्छा प्रयास
    हम सभी को बाबा श्याम का दीप जरूर जलाना चाहिए।

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।