चल मन बरसाने चल रहिए भजन लिरिक्स

चल मन बरसाने चल रहिए,
पिली पोखर प्रेम सरोवर,
पिली पोखर प्रेम सरोवर,
भानु कुंड में नहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये।।



गेहबरबन और खोर सांकरी,

गेहबरबन और खोर सांकरी,
श्री राधा दर्शन पहिए,
श्री राधा दर्शन पहिए,
चल मन बरसाने चल रहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये।।



नित्य प्रति वृषभानु सुता के,

नित्य प्रति वृषभानु सुता के,
हरष हरष गुण गहिये,
हरष हरष गुण गहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये।।



श्री हरिदास वास बरसानो,

श्री हरिदास वास बरसानो,
बड़े भाग्य से लहिये,
बड़े भाग्य से लहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये।।



चल मन बरसाने चल रहिए,

पिली पोखर प्रेम सरोवर,
पिली पोखर प्रेम सरोवर,
भानु कुंड में नहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये,
चल मन बरसाने चल रहिये।।

स्वर – साध्वी पूर्णिमा दीदी जी।


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें