प्रथम पेज आरती संग्रह

आरती संग्रह

Aarti Sangrah

शिव तांडव स्तोत्रम लिरिक्स जटा टवी गलज्जल प्रवाह पावितस्थले

शिव तांडव स्तोत्रम लिरिक्स, जटा टवी गलज्जल प्रवाह पावितस्थले, गलेवलम्ब्य लम्बितां भुजङ्ग तुङ्ग मालिकाम्, डमड्डमड्डमड्डमन्निनाद वड्डमर्वयं, चकार चण्डताण्डवं तनोतु नः शिवः शिवम्।। जटा कटा हसंभ्रम भ्रमन्निलिम्प निर्झरी, विलो लवी चिवल्लरी...

श्री रामचन्द्र जी की आरती

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन हरण भवभय दारुणं । नवकंज लोचन, कंजमुख, करकुंज, पदकंजारुणं॥ श्री राम जय जय राम। कंदर्प अगणित अमित छबि, नवनीलनीरद सुन्दरं । पट पीत...

भगवान शिव जी की आरती

भगवान शिव जी की आरती  कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं | सदा वसन्तं ह्रदयाविन्दे भंव भवानी सहितं नमामि ॥ जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा | ब्रम्हा विष्णु...

ॐ जय श्री राधा राधे कृष्ण आरती

ॐ जय श्री राधा, ॐ जय श्री कृष्णा, श्री राधा कृष्णाय नमः, श्री राधा कृष्णाय नमः।। चन्द्रमुखी चंचल चितचोरी, सुघड़ सांवरा सूरत भोरी, श्यामा श्याम एक सी जोरि, श्री...

समस्त देव वंदना तथा श्लोक

1. श्री गणेश वंदना गजाननं भूतगणादिसेवितं, कपित्थ जम्बू फलचारु भक्षणम्। उमासुतं शोकविनाश कारकम्, नमामि विघ्नेश्वरपादपकंजम्।। 2. गौरी-शंकर वंदना कर्पूरगौरं करुणावतारम्, संसार सारं भुजगेन्द्रहारम्। सदा वसन्तं हृदयारविन्दे, भवं भवानीसहितं...

मन में बसाकर तेरी मूर्ति उतारू में गिरधर तेरी आरती

मन में बसाकर तेरी मूर्ति, उतारू में गिरधर तेरी आरती।। करुणा करो कष्ट हरो ज्ञान दो भगवन, भव में फसी नाव मेरी तार दो भगवन, करुणा करो...

मैं आरती तेरी गाँउ ओ केशव कुञ्ज बिहारी लिरिक्स

मैं आरती तेरी गाँउ ओ केशव कुञ्ज बिहारी, मै नित-नित शीश नवाऊ, ओ मोहन कृष्ण मुरारी।। है तेरी छवि अनोखी ऐसी ना दूजी देखी, तुझ सा ना...

श्यामा तेरी आरती कन्हैया आरती हिंदी लिरिक्स

श्यामा तेरी आरती, कन्हैया आरती, सारा संसार, करेगा हाथ जोड़के।। सिर पर सोहणा मुकुट विराजे, गल वैजंती माला साजे, और पुष्पन के हार, करेंगे हाथ...

हे मात मेरी हे मात मेरी आरती लिरिक्स

हे मात मेरी हे मात मेरी, हे मात मेरी हे मात मेरी, कैसी यह देर लगाई है दुर्गे, हे मात मेरी हे मात मेरी।। भव सागर में घिरा...

गणपति की सेवा मंगल मेवा आरती लिरिक्स

गणपति की सेवा मंगल मेवा, श्लोक - व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः, निर्वघ्नं कुरु मे देव, सर्वकार्येषु सर्वदा। गणपति की सेवा मंगल मेवा, सेवा से सब विघ्न टरें, तीन लोक तैतिस देवता, द्वार...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।