सिद्ध कुंजिका स्तोत्र

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र, ।शिव उवाच। शृणु देवि प्रवक्ष्यामि, कुञ्जिकास्तोत्रमुत्तमम्। येन मन्त्रप्रभावेण चण्डीजापः शुभो भवेत॥१॥ न कवचं नार्गलास्तोत्रं कीलकं न रहस्यकम्। न सूक्तं नापि ध्यानं च न न्यासो न च...

मन तेरा मंदिर आँखे दिया बाती आरती लिरिक्स

मन तेरा मंदिर आँखे दिया बाती, होंठो की हैं थालियां बोल फूल पाती, रोम रोम जिव्हा तेरा नाम पुकारती, आरती ओ मैया आरती, ज्योतावालिये माँ तेरी आरती।। हे महालक्ष...

मैं तो आरती उतारूँ रे श्री राधा रसिक बिहारी की लिरिक्स

मैं तो आरती उतारूँ रे, श्री राधा रसिक बिहारी की, मेरे प्यारे निकुंज बिहारी की, प्यारे प्यारे श्री बाँके बिहारी की, मैं तो आरती उतारूं रे, श्री राधा रसिक...

जय जय पितर जी महाराज आरती लिरिक्स

जय जय पितर जी महाराज, मैं शरण पड़यों हूँ थारी, शरण पड़यो हूँ थारी देवा, रखियो लाज हमारी, जय जय पितृ जी महाराज, मैं शरण पड़यों हूँ थारी।। आप ही...

जय भगवद् गीते भागवत गीता आरती लिरिक्स

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते, हरि हिय कमल विहारिणि, सुन्दर सुपुनीते, जय भगवत गीते।। कर्म-सुमर्म-प्रकाशिनि, कामासक्तिहरा, तत्त्वज्ञान-विकाशिनि, विद्या ब्रह्म परा, जय भगवत गीते।। निश्चल-भक्ति-विधायिनि, निर्मल मलहारी, शरण-सहस्य-प्रदायिनि, सब विधि सुखकारी, जय भगवत गीते।। राग-द्वेष-विदारिणि, कारिणि मोद सदा, भव-भय-हारिणि तारिणि, परमानन्दप्रदा, जय भगवत...

शिवमहिम्नः स्तोत्रं हिंदी लिरिक्स

शिवमहिम्नः स्तोत्रं, गजाननं भूतगणादि सेवितं, कपित्थ जम्बूफलसार भक्षितम्, उमासुतं शोक विनाशकारणं, नमामि विघ्नेश्वर पादपङ्कजम्। श्री पुष्पदन्त उवाच -- महिम्नः पारं ते परमविदुषो यद्यसदृशी। स्तुतिर्ब्रह्मादीनामपि तदवसन्नास्त्वयि गिरः।। अथाऽवाच्यः सर्वः स्वमतिपरिणामावधि गृणन्। ममाप्येष...

मैं आरती तेरी गाऊं ओ अम्बे मात भवानी

मैं आरती तेरी गाऊं, ओ अम्बे मात भवानी, मैं नित नित शीश नवाऊं, ओ दुर्गे माँ महारानी।। तर्ज - मैं आरती तेरी गाउँ ओ केशव। है तेरा रूप निराला, सच...

देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे श्री गंगा स्त्रोतम

देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे, त्रिभुवनतारिणि तरलतरंगे, शंकरमौलिविहारिणि विमले, मम मतिरास्तां तव पदकमले, देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे।। भागीरथिसुखदायिनि मातस्तव, जलमहिमा निगमे ख्यातः, नाहं जाने तव महिमानं, पाहि कृपामयि मामज्ञानम्, देवि सुरेश्वरि भगवति गंगे।। हरिपदपाद्यतरंगिणि गंगे, हिमविधुमुक्ताधवलतरंगे, दूरीकुरु...

हे गोपाल कृष्ण करूँ आरती तेरी हिंदी लिरिक्स

हे गोपाल कृष्ण करूँ आरती तेरी, हे प्रिया पति मैं करूँ आरती तेरी, तुझपे ओ कान्हा बलि बलि जाऊं, सांझ सवेरे तेरे गुण गाउँ, प्रेम में रंगी मैं...

सांवल सा गिरधारी भला हो रामा सांवल सा गिरधारी लिरिक्स

सांवल सा गिरधारी, भला हो रामा सांवल सा गिरधारी, भरोसो भारी, हरी बिना मोरी, गोपाल बिना मोरी, सांवल सेठ बिना मोरी, कुण खबर लेवे म्हारी, सांवल सा गिरधारी।। लटपट पाग केशरिया...

कृष्ण भजन लिरिक्स

फ़िल्मी तर्ज भजन

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।