भोले बाबा के द्वार सबका होता उद्धार भजन लिरिक्स

भोले बाबा के द्वार,
सबका होता उद्धार,
दर्शन को उनके तू तो होजा रे तैयार,
पायेगा उपहार,
चल चला चल,
अकेला चल चला चल।।

तर्ज – फकीरा चल चला चल।



बचपन सारा खेल गवाया,

कुछ भी तू नही कर पाया,
आयी जवानी खूब सजाई,
तूने तो अपनी काया,
करके सोलह श्रंगार,
घुमा सारा संसार,
फिर भी न पाया तूने,
किसी का भी प्यार,
पायेगा उपहार,
चल चला चल,
अकेला चल चला चल।।



शिव का द्वार खुला है हर पल,

जब चाहे तब आ जाना,
भक्ति भाव से टेक के माथा,
इच्छा वर फल पा जाना,
वो है दानी दयाल,
रखता सबका ख्याल,
अपने भक्तों को वो,
सब कुछ देने को तैयार,
पायेगा उपहार,
चल चला चल,
अकेला चल चला चल।।



दोहा- दानी होकर चुप क्यो बैठे,

कैसी तेरी दातारी रे,
जो सुध ना ली भक्तो की,
होगी बदनामी थारी रे।
नाम सुना था दानी तेरा,
इसी से दर पे आया हूँ,
पेट के खातिर अपने,
नैनो में आंसू लाया हूँ।
इच्छा पूरी करदो बाबा,
कीर्ति बड़ी तुम्हारी रे,
जो सुध ना ली भक्तो की,
होगी बदनामी थारी रे।
ना मांगू मैं माल खजाना,
ना कोई महल अटारी रे,
श्री पद दर्शन चाहू बाबा,
गर हो इच्छा थारी रे।।



अनुपम जीवन,

अनुपम काया,
शिव से तूने पाई है,
तू भी गाले शिव की महिमा,
देवो ने भी गाई है,
वो है दानी दयाल,
रखते सबका ख्याल,
अपने भक्तो को वो सब कुछ,
देने को तैयार,
पायेगा उपहार,
चल चला चल,
अकेला चल चला चल।।



भोले बाबा के द्वार,

सबका होता उद्धार,
दर्शन को उनके तू तो होजा रे तैयार,
पायेगा उपहार,
चल चला चल,
अकेला चल चला चल।।

गायक – कालूसिंह जी यादव।
प्रेषक – प्रीतम यादव।
8120823027


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

छोटी सी मेरी पार्वती शंकर की पूजा करती थी भजन लिरिक्स

छोटी सी मेरी पार्वती शंकर की पूजा करती थी भजन लिरिक्स

छोटी सी मेरी पार्वती, शंकर की पूजा करती थी, निर्जल रहकर निश्छल मन से, नित ध्यान प्रभू का धरती थी, छोटी सी मेरी पारवती, शंकर की पूजा करती थी।। तर्ज…

लिखने वाले ने लिख डाले मिलन के साथ बिछोड़े भजन

लिखने वाले ने लिख डाले मिलन के साथ बिछोड़े भजन लिरिक्स

लिखने वाले ने लिख डाले, मिलन के साथ बिछोड़े, आजा अब श्याम सलोने, दिन रह गए थोड़े।। बरसो बीते तुम बिन साजन, बरसो बीते तुम बिन मोहन, बेरंग फागुन सुना…

हे संकट मोचन करते है वंदन भजन लिरिक्स

हे संकट मोचन करते है वंदन भजन लिरिक्स

हे संकट मोचन करते है वंदन, तुम्हरे बिना संकट कौन हरे, सालासर वाले तुम हो रखवाले, तुम्हरे बिना संकट कौन हरे।। तर्ज – ओ पालनहारे। सिवा तेरे ना दूजा हमारा,…

आओ बसाये मन मंदिर में झांकी सीताराम की भजन लिरिक्स

आओ बसाये मन मंदिर में झांकी सीताराम की भजन लिरिक्स

आओ बसाये मन मंदिर में, झांकी सीताराम की, जिसके मन में राम नहीं वो, काया है किस काम की।। तर्ज – क्या मिलिए ऐसे लोगो से। गौतम नारी अहिल्या तारी,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे