भेरूजी सोनाला नगरी में थोरो बेसनो भजन लिरिक्स

भेरूजी सोनाला नगरी में थोरो बेसनो,
भगतो रा बुलाया,
वेगा आवो मारा भेरूजी,
ए पधारो मारा खेतलाजी,
आज री जागन में,
वेगा आवजो भेरूजी।।



भेरूजी संगडो आवे कोसेलाव गाँव ती,

भेरूजी अरे जियो भेरूजी,
पैदल आवे कोसेलाव गाँव ती,
भेरूजी आवे आवे,
बालक ने नर नार मारा भेरूजी,
ए भगत मनावे वेगा आवजो भेरूजी।।



ए जियो भेरूजी ढोल ने,

नगाडा थोरे साथ मे खेतलाजी,
अरे ढोल नगाडा,
थोरे साथ मे खेतलाजी,
अरे भगत आवे थोरा,
चरना माय मारा खेतलाजी,
माय मारा भेरूजी,
ए भगत मनावे वेगा आवजो भेरूजी।।



अरे जियो खेतलाजी,

ए भगतो रा टोला सोनाले आविया,
खेतलाजी अरे जियो भेरूजी,
ए भगतो रा टोला सोनाले आविया,
अरे लागे वटे थोरा जय जयकार,
खेतलाजी जयकार मारा भेरूजी,
भगतो रा बुलाया वेगा आवजो भेरूजी।।



अरे जियो खेतलाजी,

भक्त चेलोजी चरने आविया,
ए थोरा भगत चरना मे आविया,
अरे आया थोरे चरनो,
रे माय मारा भेरूजी,
माय मारा खेतलाजी,
अरे भगतो रा बुलाया वेगा आवजो भेरूजी।।



अरे जियो भेरूजी,

अरे दास कन्हैयो गावे,
भाव सु खेतलाजी,
ए प्रजापत साउण्ड मे,
महीमा आपरी भेरूजी,
अरे दास अशोक गावे साथ,
मारा भेरूजी साथ मारा भेरूजी,
आज रा भजनों मे वेगा आवजो भेरूजी।।



भेरूजी सोनाला नगरी में थोरो बेसनो,

भगतो रा बुलाया,
वेगा आवो मारा भेरूजी,
ए पधारो मारा खेतलाजी,
आज री जागन में,
वेगा आवजो भेरूजी।।

गायक – संत कन्हैयालाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

चार खुट में फिरो भल्याई दिल का भेद नहीं देणा रे

चार खुट में फिरो भल्याई दिल का भेद नहीं देणा रे

चार खुट में फिरो भल्याई, दिल का भेद नहीं देणा रे। दोहा – सतगुरु दिख्या आवता, दि जाजम बिछवाई, फुला कि बरखा हुईं, मारे रहि चमेली छाय। चार खुट में…

लेतो जा तू लेतो जा बाबा रो नाम लेतो जा लिरिक्स

लेतो जा तू लेतो जा बाबा रो नाम लेतो जा लिरिक्स

लेतो जा तू लेतो जा, बाबा रो नाम लेतो जा, बोलेजा तू बोलेजा, जय बाबेरी बोलेजा, बाबो बिगडी बात बनावे, शरणे बाबारी आतोजा।। अजमलजी रो कंवर बाबो, मेणादे रो लालो…

मन रे काई करबा ने आयो देसी भजन लिरिक्स

मन रे काई करबा ने आयो देसी भजन लिरिक्स

मन रे काई करबा ने आयो, वृथा जन्म लियो धरती पर, जन्म लेर पछतायो।। मिनख जमारो दियो रामजी, प्रारब्ध से पायो, थारी-म्हारी करता करता, कदै न हरि गुण गायो, मन…

ईन्द्रराजा कद बरसेलो रे राजस्थानी गीत लिरिक्स

ईन्द्रराजा कद बरसेलो रे राजस्थानी गीत लिरिक्स

ईन्द्रराजा कद बरसेलो रे, मनडा रो मोरयो, पिऊ पीऊं बोले दिन रात, ईन्द्रराजा कद बरसलो रे।। जेठ असाढा में पड्यो नहीं छाटो, सावण भादवा में कर बरसात, ईन्द्रराजा कद बरसलो…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे