प्रथम पेज कृष्ण भजन भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है भजन लिरिक्स

भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है भजन लिरिक्स

भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।

तर्ज – ये रेशमी झुल्फे।



लटके फूलो की लडिया दरबार में,

महके अंतर की खुशबू दरबार में,
जगमग जगमग ज्योत जली,
लगती है कितनी हली भली,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



पलके सबकी बिछी है तेरी राह में,

तरसे प्रेमी तुम्हारे तेरी चाह में,
धिनक धिनक ढोलक बोले,
अमृत रस मुरली घोले,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



कोई मेवा मिश्री लाया है,

कोई कंदुल भेट में लाया है,
अपनी अपनी श्रद्धा से,
आये सब तुमसे मिलने,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



रंग भाव भजन का निखरा यहाँ,

अटके श्याम बिहारी ढूंढे कहाँ,
वादा याद दिलाते है,
‘नंदू’ क्यों तरसाते है,
कमी आपकी श्याम आ जाये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाये।

भक्तों ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,
कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।



भक्तो ने हिल मिलकर उत्सव मनाया है,

कमी आपकी श्याम आ जाइये,
बस कमी आपकी श्याम आ जाइये।।

Singer : Mukesh Bagda


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।