बाबोसा मुझे तेरा सहारा थामे रहना हाथ हमारा लिरिक्स

बाबोसा मुझे तेरा सहारा,
थामे रहना हाथ हमारा,
अगर जो गिर मैं जाँऊ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा,
मैंने तुझको अपना माना,
झूठा है ये सारा जमाना,
तुझे छोड़के न जाँऊ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा।।

तर्ज – तेरा साथ है कितना प्यारा।



दिया उन्होंने मुझे दगा,

जिनसे की मैंने वफ़ा,
जिनसे की मैंने वफ़ा,
मुझको कोई फिकर नही,
बाबा जबसे तू मिला,
बाबा जबसे तू मिला,
तूने कृपा जो, है बरसाई,
है ये तेरी रहनुमाई,
तेरी पनाह में आऊँ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा।।



नही चहिये अब मुझे,

धन दौलत झूठी शान,
धन दौलत झूठी शान,
तन मन तुझपे वार दिया,
ये जीवन भी कुर्बान,
ये जीवन भी कुर्बान,
सर पे जो मेरे, है तेरा साया,
बड़ी मुश्किल से, मेने पाया,
मैं सबको ये बताऊँ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा।।



‘दिलबर’ जो विश्वास हो,

मन मे हो सच्ची लगन,
मन मे हो सच्ची लगन,
मंजू बाईसा में हमको,
बाबोसा के हो दर्शन,
बाबोसा के हो दर्शन,
सूरज के संग, कविता भी गाये,
सुरो की गंगा बहाये,
हमे गाना पड़ेगा,
भजन ये दुबारा,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा।।



बाबोसा मुझे तेरा सहारा,

थामे रहना हाथ हमारा,
अगर जो गिर मैं जाँऊ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा,
मैंने तुझको अपना माना,
झूठा है ये सारा जमाना,
तुझे छोड़के न जाँऊ,
मुझे देना सहारा,
दुनिया से मैं हारा।।

गायक – सुरेश रांका एवम कविता शाह।
लेखक / प्रेषक – दिलीप सिंह सिसोदिया ‘दिलबर’।
9907023365


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

बाबोसा मैं हूँ पतंग तेरे हाथों में है डोर लिरिक्स

बाबोसा मैं हूँ पतंग तेरे हाथों में है डोर लिरिक्स

बाबोसा मैं हूँ पतंग, तेरे हाथों में है डोर, कही टूट नही जाये, ये डोर बड़ी कमजोर, बाबोसा मैं हूं पतंग।। तर्ज – अफसाना लिख रही हूँ। तेरी मर्जी चाहे…

इण कलयुग में बाबोसा भक्तो रा बेड़ा पार करे लिरिक्स

इण कलयुग में बाबोसा भक्तो रा बेड़ा पार करे लिरिक्स

इण कलयुग में बाबोसा, भक्तो रा बेड़ा पार करे, सांचे मन से जो सुमरे, श्री बाबोसा रो ध्यान धरे, उण भक्ता रो उद्धार करे, इण कलयुग मे बाबोसा, भक्तो रा…

मेरा हमदम वो बनके बाबोसा मेरे साथ चलता है लिरिक्स

मेरा हमदम वो बनके बाबोसा मेरे साथ चलता है लिरिक्स

मेरा हमदम वो बनके बाबोसा, मेरे साथ चलता है, अंधेरो में भी अब मुझको, पता मंजिल का मिलता है, मेरा हमदम वों बनके बाबोसा, मेरे साथ चलता है।। तर्ज –…

जिस घर में बाबोसा की दिव्य ज्योती जलती है लिरिक्स

जिस घर में बाबोसा की दिव्य ज्योती जलती है लिरिक्स

उस घर के हर दरवाजे पर, खुशियाँ पहरा देती है, जिस घर में बाबोसा की, दिव्य ज्योती जलती है।। उस घर की चौखट पर, जय बाबोसा लिखा होगा, कही पे…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे