बाबा तुम्हारे दिल में बस ये प्यार कम न हो

बाबा तुम्हारे दिल में बस,
ये प्यार कम न हो,
तुमसे बिछड़ना हो लिखा,
उस रात हम न हो,
बाबा तुम्हारे दिल में।।

तर्ज – लग जा गले की फिर।



तुमने हटाया हाथ तो,

हो जाए ख़ाक हम,
पड़ जाए आपकी नजर,
बन जाए लाख हम,
तुम थामो जो हाथ सांवरे,
जीवन में गम न हो,
तुमसे बिछड़ना हो लिखा,
उस रात हम न हो,
बाबा तुम्हारे दिल में।।



माता पिता बंधू सखा,

सबकुछ ही आप हो,
सांसो में चलती रहती उस,
माला का जाप हो,
सच है ये मान लो कहीं,
तुमको भरम न हो,
तुमसे बिछड़ना हो लिखा,
उस रात हम न हो,
बाबा तुम्हारे दिल में।।



ये मतलबी संसार है,

जंजाल में कसे,
पर कैसे रोऊँ सांवरे,
आँखों में तुम बसे,
आकाश के बादल की अब,
ये आँख नम न हो,
तुमसे बिछड़ना हो लिखा,
उस रात हम न हो,
बाबा तुम्हारे दिल में।।



बाबा तुम्हारे दिल में बस,

ये प्यार कम न हो,
तुमसे बिछड़ना हो लिखा,
उस रात हम न हो,
बाबा तुम्हारे दिल में।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें