बाबा श्याम की हवेली ये है बड़ी अलबेली भजन लिरिक्स

बाबा श्याम की हवेली,
ये है बड़ी अलबेली,
बड़े सुन्दर नज़ारे,
लगते है प्यारे प्यारे,
इसमें सजधज बैठा,
मेरा यार सांवरिया,
सोणा सोणा बड़ा सोणा,
मेरा यार सांवरिया।।

तर्ज – लौंग लाची।



हो तेरी आँखों का ये काजल,

हमें करता है घायल,
तेरा देख के श्रृंगार,
दिल हो जाता है पागल,
तेरी अँखियों से झलके,
बड़ा प्यार सांवरिया,
सोणा सोणा बड़ा सोणा,
मेरा यार सांवरिया।।



तेरे घुंगर वाले बाल,

तेरे मोटे मोटे गाल,
तेरे होंठो पे मुरलिया,
तेरी तिरछी सी चाल,
तेरी बांकी सी अदाएं,
दिलदार सांवरिया,
सोणा सोणा बड़ा सोणा,
मेरा यार सांवरिया।।



तेरी चितवन बांकी बांकी,

तेरी मनमोहनी है झांकी,
जो भी देखे तुमको कान्हा,
वो तो हो जाए दीवाना,
‘हंस’ नज़र उतारे,
बार बार सांवरिया,
सोणा सोणा बड़ा सोणा,
मेरा यार सांवरिया।।



बाबा श्याम की हवेली,

ये है बड़ी अलबेली,
बड़े सुन्दर नज़ारे,
लगते है प्यारे प्यारे,
इसमें सजधज बैठा,
मेरा यार सांवरिया,
सोणा सोणा बड़ा सोणा,
मेरा यार सांवरिया।।

स्वर – कुमारी गुंजन।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें