बाबा मन्नै करया चालीसा तेरा खेत के कोठड़े प डेरा

बाबा मन्नै करया चालीसा तेरा,
खेत के कोठड़े प डेरा,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।



तन प बांधया लाल लंगोटा,

चालीस दिन धरती में लोटया,
हो नियम तं करी खुभात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।



ना कदे खाया अन्न का दाणा,

खटक लगी तेरा दर्शन पाणा,
तुम तो रहो भक्त के साथ,
मन्नै दर्शन दे बालाजी,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।



निश दिन जपी राम की माला,

मन में हरदम घाटे आला,
सयामी हुई नहीं मुलाकात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।



यो अशोक भक्त स पक्का,

जीवन में लागया एक धक्का,
हो ना हुई तेरे त बात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।



बाबा मन्नै करया चालीसा तेरा,

खेत के कोठड़े प डेरा,
हो तेरा भजन करुं दिन रात,
मन्नै दर्शन दे बालाजी।।

गायक – नरेंद्र कौशिक जी।
प्रेषक – राकेश कुमार खरक जाटान(रोहतक)
9992976579


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें