मैं के बोलूं मईया री तन्नै सब बातां का बैरा स लिरिक्स

मैं के बोलूं मईया री,
तन्नै सब बातां का बैरा स,
पिछली साल घणे तारे,
पर इबके नम्बर मेरा स।।



तुं चहावः त फुटी,

तकदीर समरज्या पल भर में,
तुं चहावः त हाथां की,
लकीर बदलज्या पल भर में,
तुं चहावः त होवे उजाला,
ना त घोर अंधेरा स।।



मेरे अगड़ पड़ोसी सारे,

तन्नै सबका काम बणाया स,
किसे न गाडी लेली,
किसे न महल बणाया स,
यो के हाल बणाया स,
मेरा दो कमरां में डेरा स।।



तुं दोनु हाथ लुटावः,

तेरे घणे खजाने भरे पड़े,
हम रोटी पुरी करते,
ओर कमा कमा क मरे पड़े,
छप्पन करोड़ का बंफर खुलज्या,
इतणा माल भतेरा स।।



मेरा सपना पुरा होगा,

ना छोडी कदे आस मन्नै,
तुं सुणेगी विनती मेरी,
यो पक्का विस्वास मन्नै,
देर सही अंधेर नहीं,
नरसी ने इतणा बैरा स।।



मैं के बोलूं मईया री,

तन्नै सब बातां का बैरा स,
पिछली साल घणे तारे,
पर इबके नम्बर मेरा स।।

गायक – नरेंद्र कौशिक जी।
प्रेषक – राकेश कुमार जी।
खरक जाटान(रोहतक)
9992976579


पिछला भजनम्हारी बिगड़ी बात बणादे हो हो भक्तां के रखवाले लिरिक्स
अगला भजनबाबा का दरबार लगै स री मंगल और शनिवार लिरिक्स

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें