बाबा जब भी जिसने तेरा नाम पुकारा है भजन लिरिक्स

बाबा जब भी जिसने,
तेरा नाम पुकारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।



सब कुछ पाया मैंने,

तुमसे मेरे श्याम धणी,
रहे किरपा तेरी बाबा,
हम पर यूँ बहुत घणी,
बिन तेरी किरपा बाबा,
हमें कुछ ना गवारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।



जब कोई ना था मेरा,

तुझको पाया मैंने,
कितने ही तूफानों के,
मुँह मोड़ दिये तूने,
मैं गर्व से कहता हूँ,
बाबा श्याम हमारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।



तू जबसे मिला मुझको,

आसान हुआ जीवन,
जीने का मजा आया,
दुःख भूल गया भगवन,
तू ही आधार मेरा,
और तू ही सहारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।



मैं कुछ नहीं दे सकता,

तुझे श्याम प्रभु मेरे,
तेरा नाम जो लेता हूँ,
सम्भ नहीं बिन तेरे,
तुझसे ही ये सांसे है,
सांसो से तू प्यारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।



बाबा जब भी जिसने,

तेरा नाम पुकारा है,
तूने तूने उस जीवन को,
हाथों से संवारा है,
बाबा जब भीं जिसने,
तेरा नाम पुकारा है।।

स्वर – संजय मित्तल जी।
प्रेषक – Abhishek
8946833348


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें